Hiran Aur Raja (PB)

Hiran Aur Raja (PB)

Rs. 40/-

  • ISBN:978-81-7309-1
  • Pages:56
  • Edition:Fourth
  • Language:Hindi
  • Year:2006
  • Binding:Paper Back

हिरन और राजा

पृथिवी कुमार

मूल्य: 40.00 रुपए

हिंदी में बच्चों के लिए कथा-कहानियों की बहुत-सी किताबें निकली हैं, लेकिन ऐसी किताबें बहुत कम हैं, जो बच्चों के द्वारा बच्चों के लिए लिखी गई हों। यह पुस्तक इसी ढंग की है। जातक-कथाएं, पढ़कर लेखक का मन जातक-कहानियों को लिखने में लग गया। वहीं कहानियां इस पुस्तक में निकाली जा रही हैं। लेखके के पिता डा. वासुदेव शरण अग्रवाल ने लिखा है, ‘‘हम सबमें बालभाव का एक अमिट अंश है, वह सदा कहानी से सुख पाता है। कहते हैं - चार धड़े अमृत के भरे, दो कहनेवाले के, दो सुननेवाले के! बुद्धि और जीभ कहनेवाले के पास है, कान और मन सुननेवाले के। इनमें से चाहे जितना निकालो, इनमें चाहे जितना डालो, ये अमृत के घड़े रीते नहीं होते। उन्हीं अमृत के घड़ों में से ये कहानियां जन्मी थीं, इसलिए आज तक जीवित हैं, सदा जिएंगी।’’

Write a review

Note: HTML is not translated!
  • Bad
  • Good