Ganga Tat Se Bhumadhaya Sagar Tak (PB)

Ganga Tat Se Bhumadhaya Sagar Tak (PB)

Rs. 90/-

  • ISBN:978-81-7309-7
  • Pages:
  • Edition:
  • Language:
  • Year:
  • Binding:

पं. विद्यानिवास मिश्र ने ‘गंगा तट से भूमध्यसागर तक’ के इन निबंधों में परंपरा-संस्कृति-साहित्य के चिंतन का इस मर्मज्ञता के साथ ‘आकलन’ प्रस्तुत किया है कि उनके प्रति हमारा सिर कृतज्ञता से झुक जाता है। पंडित जी ने अपने चिंतन से साहित्य-समीक्षा को जो नया अपूर्व मोड़ दिया-वह अविस्मरणीय है। उनकी चिंतन-यात्रा की विशिष्ट सांस्कृतिक संदर्भ में ही उसके सच्चे स्वरूप की पहचान संभव है। प्राचीन साहित्य एवं साहित्यशास्त्र के विचार-शिल्प की पूर्व-स्थापना को विषय की जड़ों में बैठकर पुनः निर्मित या विनिर्मित करना ऐतिहासिक दृष्टि से एक बड़ा कार्य है।

Write a review

Note: HTML is not translated!
  • Bad
  • Good