Saral Yogashan (PB)

Saral Yogashan (PB)

Rs. 50/-

  • ISBN:81-7309-117-x
  • Pages:
  • Edition:
  • Language:
  • Year:
  • Binding:

सरल योगासन और उसकी विधियां

धर्मचन्द्र सरावगी

मूल्य: 45.00 रुपए

शहरों में, विशेषकर पढ़े-लिखे लोगों में, तंदुरुस्ती समस्या बन गई है। जीवन अनियमित और संघर्ष-पूर्ण होने के कारण आज पूरी तरह से स्वस्थ लोगों की संख्या अंगुलियों पर गिनी जा सकती है। परिणाम यह कि अधिकांश लोग डाक्टरों का दरवाजा खटखटाते हैं और दवाइयों के चक्कर में पैसे की बरबादी तो करते ही हैं, अपने शरीर को भी औषधियों का भंडार बना देते हैं। नगरों की आबादी बढ़ने के साथ-साथ स्वास्थ्य की समस्या बराबर जटिल होती जा रही है। मध्यम वर्ग के लिए तो यह बेहद परेशानी पैदा कर रही है। उसी परेशानी को दूर करने और पैसे की बरबादी को रोकने के लिए इस पुस्तक का प्रकाशन किया गया है। इसमें बीस योगासन दिए गए हैं और बताया गया है कि कौन सा आसन किस रोग को दूर करने के लिए करना चाहिए।

Write a review

Note: HTML is not translated!
  • Bad
  • Good