Nav Prabhat (PB)

Nav Prabhat (PB)

Rs. 45/-

  • ISBN:978-81-7309-6
  • Pages:
  • Edition:
  • Language:
  • Year:
  • Binding:

नव प्रभात

विष्णु प्रभागर

मूल्य: 25.00 रुपए

प्रस्तुत नाटक के लेखक हिंदी के विख्यात साहित्यकार हैं। उन्होंने अनेक विषयों में उत्कृष्ट साहित्य की रचना की है। उनकी सबसे बड़ी विशेषता यह है कि वह मानवीय मूल्यों के उपासक हैं। उन्हीं मूल्यों को वह अपनी रचनाओं द्वारा पाठकों तक पहुंचाते रहते हैं। उन्होंने बहुत-से नाटक् लिखे हैं और नाटकों में भी उन्हीं मूल्यों का प्रतिपादन किया है। इस नाटक का ताना-बाना उन्होंने इतिहास प्रसिद्ध सम्राट अशोक के इर्द-गिर्द बुना है। कलिंग के युद्ध में विजयी होकर अशोक किस प्रकार हिंसा से विमुख हो शांति का दूत बन जाता है, यह उन्होंने इस नाटक् में दिखाया है।

राजाजी की लघु कथाएं

 

Write a review

Note: HTML is not translated!
  • Bad
  • Good