Bhartiy Lok Kathaye (PB)

Bhartiy Lok Kathaye (PB)

Rs. 50/-

  • ISBN:81-7309-098-x
  • Pages:
  • Edition:
  • Language:
  • Year:
  • Binding:

भारतीय लोककथाएं

यशपाल जैन

मूल्य: 50.00 रुपए

हमारे देश में और दुनिया में छोटा-बड़ा शायद ही कोई ऐसा हो, जिसे लोक-कथाओं के पढ़ने या सुनने में आनंद न आता हो। हमारे गांवों में तो आज भी ऐसे लोग मौजूद हैं, जो चैधरी की चैपाल पर या और कहीं गांववासियों को बड़े ही रोचक ढंग से लोक-कथाएं सुनाते हैं और उनकी एक-एक कहानी कभी-कभी कई-कई रात तक चलती है। क्या मजाल कि सुनने वाले ऊब जाएं। इस पुस्तक में हमने अपने देश की, विशेषकर हिंदी-परिवार की भाषाओं की, चुनी हुई लोक-कथाएं दी हैं। हम चाहते तो यह थे कि सारे भारत में प्रत्येक अंचल की कहानियां अपने पाठकों को देते, लेकिन थोड़े से पृष्ठों में इतनी सामगं्री आ नहीं सकती थी। इसलिए हमने उन कहानियों को चुना, जो सरल हों, सरस हों और मनोरंजक हों।

Write a review

Note: HTML is not translated!
  • Bad
  • Good